लेटेस्ट आर्टिकल्स

शोषित वर्गों के हक में आग उगलती थी कृश्न चंदर की कलम

शोषित वर्गों के हक में आग उगलती थी कृश्न चंदर की कलम

र्दू अदब के अफसानानिगार कृश्न चंदर ने बेशुमार लिखा हैं। हिंदी और उर्दू दोनों ही जबानों में समान अधिकार के साथ लिखा। कृश्न चंदर की जिन्दगी के ऊपर तरक्कीपसंद तहरीक का सबसे ज्यादा असर पड़ा। यह अकारण नहीं है कि उनके ज्यादातर अफसाने समाजवाद से प्रेरित हैं। वे एक प्रतिबद्ध लेखक थे। उनके सम्पूर्ण साहित्यिक लेखन को उठाकर देख लीजिए, उसमें हमेशा एक उद्देश्य, एक विचार मिलता है। किसी उद्देश्य के बिना उनकी कोई रचना पूरी नहीं होती थी।

कृश्न चंदर ने अपनी कलम के जरिये हमेशा दीन-दुखियारों के दुःख-दर्द, उम्मीदों-नाकामियों की बात की। साम्प्रदायिकता और धार्मिक कट्टरता पर प्रहार किए। 23 नवम्बर, 1914 को अविभाजित भारत के वजीराबाद, जिला गूजरांवाला में जन्मे कृश्न चंदर का बचपन और जवानी का शुरूआती हिस्सा कश्मीर में बीता। यही वजह है कि उनकी भाषा पर डोगरी और पहाड़ी का साफ असर दिखलाई देता है।

साल 1936 से ही कृश्न चंदर ने लिखना शुरू कर दिया था। उनके लिखने की शुरूआत एक लघु कथा से हुई। लघु कथा एक पत्रिका में प्रकाशित हुई और इसकी खूब तारीफ भी हुई। इस तरह से कृश्न चंदर के अफसानानिगार बनने का आगाज हुआ।

उनकी शुरुआती कहानियां हुमायूं’, ‘अदबी दुनिया’, ‘अदब-ए-लतीफऔर नया अदबवगैरह पत्रिकाओं में प्रकाशित हुईं। अपनी नौजवानी के दिनों में कृश्न चंदर ने सियासत में भी हिस्सा लिया। वे बाकायदा सोशलिस्ट पार्टी के मेंबर भी रहे। इस बात का बहुत कम लोगों को इल्म होगा कि मुल्क की आजादी की तहरीक में वे एक बार शहीद-ए-आजम भगत सिंह के साथ गिरफ्तार हो, जेल भी गए थे।

पढ़े : ...और बगावत बन गई साहिर के मिजाज का हिस्सा!

पढ़े : उर्दू ज़बान के ‘शायर-ए-आज़म’ थे फ़िराक़ गोरखपुरी!

पढ़े : एहसान दानिश की पहचान ‘शायर-ए-मजदूर’ कैसे बनी?

कहानीयों में दर्दनाक दास्तां

बंटवारे के बाद कृश्न चंदर लाहौर से भारत आ गए। बंटवारे के बाद मिली आजादी को कृश्न चंदर हमेशा त्रासद आजादी मानते रहे और उसी की नुक्ता-ए-नजर में उन्होंने अपनी कई कहानियां और रचनाएं लिखीं। उनकी कहानी पेशावर एक्सप्रेसभारत-पाक बंटवारे की दर्दनाक दास्तां को बयां करती है। इस कहानी में उन्होंने बड़े ही खूबसूरती से इस ख्याल को पिरोया है,‘‘कब आदमी के भीतर का शैतान जाग उठता है और इंसान मर जाता है।’’

पढ़ाई पूरी करने के बाद कृश्न चंदर ने अपनी पहली नौकरी ऑल इंडिया रेडियो में की। पहली पोस्टिंग लाहौर में हुई और उसके बाद दिल्ली आना हुआ। कुछ दिन वे ऑल इंडिया रेडियो, लखनऊ में भी रहे। ऑल इंडिया रेडियो में नौकरी के दौरान उनकी मुलाकात अपने दौर के कई मशहूर लेखकों से हुई। जिनके साथ रहकर उन्होंने बहुत कुछ सीखा।

कृश्न चंदर का फिल्मों में जाना कैसे हुआ, इसके पीछे भी एक दिलचस्प वाकिआ है। लखनऊ में नौकरी के दौरान कृश्न चंदर की कहानी सफेद खूनएक पत्रिका में छपी, जिसे एक फिल्म निर्माता डब्ल्यू. जैड. अहमद ने पढ़ा, तो उन्होंने कृश्न चंदर से फिल्म के लिए लिखने की पेशकश की। पेशकश को मंजूर करते हुए कृश्न चंदर ने अपनी नौकरी से इस्तीफा दिया और पुणे आकर शालीमार पिक्चर्समें शामिल हो गए।

उन्होंने अपनी इसी कहानी सफेद खूनपर फिल्म मन का मीतकी स्टोरी लिखी, जो बेहद कामयाब रही। बहरहाल कृश्न चंदर का शालीमार पिक्चर्समें पूना जाना हुआ, तो वे फिल्मी दुनिया के ही हो के रह गए। उनकी बाकी जिंदगी मायानगरी मुंबई में ही गुजरी। फिल्मों के लिए उन्होंने कहानियां, पटकथा, संवाद लिखे। अपनी फिल्मी मशरुफियतों के बावजूद, उन्होंने अदब से नाता नहीं तोड़ा।

पढ़ें :  फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ : सत्ताधारीयों को खुली चुनौती देने वाला शायर

पढ़े : शायर-ए-इंकलाब ‘जोश मलीहाबादी’ पाकिस्तान क्यों चले गए?

पढ़े :  इश्क के एहसास वाले बगावती शायरी थे जां निसार अख्त़र

अंतरराष्ट्रीय अदबी पहचान

कृश्न चंदर ने कहानियां, उपन्यास, व्यंग्य लेख, नाटक यानी साहित्य की सभी विधाओं में खूब काम किया। मगर उनकी मुख्य पहचान कहानीकार के तौर पर ही बनी। दूसरी आलमी जंग के दौरान बंगाल में पड़े भीषण अकाल पर लिखी अन्नदाताउनकी कालजयी कहानी है। अन्नदाताका अंग्रेजी जबान में भी तर्जुमा हुआ। जो कि हिंदी से भी ज्यादा मकबूल हुआ।

इस कहानी के साथ ही कृश्न चंदर अंतरराष्ट्रीय अदबी दुनिया में एक बेहतरीन अफसानानिगार के तौर पर तस्लीम कर लिए गए। अन्नदाताके बाद उन्होंने कई शाहकार अफसाने लिखे। गड्डा’, ‘दानी’, ‘पूरे चांद की रात’, ‘आधे घंटे का खुदाजैसी उनकी कई दूसरी कहानियां भी उर्दू अदब में क्लासिक मानी जाती हैं। कृश्न चंदर की ज्यादातर कहानियां ऐसे इंसानों पर केन्द्रित हैं, जिनको दूसरे लोग आम तौर पर नोटिस भी नहीं करते।

मसलन कहानी कालू भंगीमें वे बड़े ही मार्मिकता से समाज में सबसे ज्यादा हाशिए पर रहने वाले दलित समुदाय के एक शख्स कालूकी जिन्दगी की दर्दनाक दास्तां को बयां करते है। कृश्न चंदर में हर इन्सान को बराबरी और सम्मान देने का एक अद्भुत गुण था।

उन्होंने अपनी कहानियों में व्यवस्था पर भी तीखे प्रहार किए। लालफीताशाही और अफसरशाही ने देश की व्यवस्था को कैसे चौपट किया है?, यह उनकी कहानी जामुन का पेड़में दिलचस्प तरीके से आया है। व्यंग्यात्मक शैली में लिखी गई यह कहानी सरकारी महकमों की कार्यशैली, अफसरों के काम करने के तौर-तरीकों और लाल फीताशाही पर गंभीर सवाल उठाती है।

पढ़ें : बारा साल की उम्र में ही सरोजिनी नायडू को निज़ाम ने दिया था वजीफा

पढ़ें : छोटे भाई टैगोर की मुख़रता से रही स्वर्णकुमारी उपेक्षित लेखिका

पढ़ें : अपनी कहानियों को खुद जीती थी रजिया सज्जाद जहीर!

मजदूरों के संघर्षों की अभिव्यक्ति

उर्दू कथा साहित्य को कृश्न चंदर ने बहुत कुछ दिया। उन्होंने उर्दू कहानी को किसान-मजदूर आंदोलन से बाबस्ता किया और उसमें जन संघर्षों को अभिव्यक्ति देने की ताकत पैदा की। उर्दू कहानी को कृश्न चंदर की सबसे बड़ी देन, टेकनीक है। उनकी कहानियों की टेकनीक, रिपोर्ताज की टेकनीक है।

वे शब्द चित्रों के माध्यम से अपनी कहानियों में एक शानदार वातावरण बना दिया करते थे। यह वातावरण पाठकों पर जादू करता था। फिर भी उनकी कहानी में उद्देश्य ओझल नहीं होता था। कृश्न चंदर की कोई भी कहानी उठाकर देख लीजिएगा, उनमें बुद्धि और भावना का लाजवाब तालमेल मिलेगा।

मशहूर शायर फिराक गोरखपुरी ने अपनी किताब उर्दू भाषा और साहित्यमें कृश्न चंदर की कहानी कला का विश्लेषण करते हुए लिखा है, “कृश्न चंदर की कला की दो विशेषताएं हैं-एक तो उनकी सार्वभौमिक दृष्टि और जागरूक बौद्धिकता। दूसरी उनकी विशिष्ट टेकनीक। ..लगभग हर कहानी में सामाजिक क्रांति की आवश्यकता, बल्कि समाजवादी क्रांति की आवश्यकता चिल्ला-चिल्ला कर बोलती दिखाई देती है।

कृश्न चंदर की किताबों की संख्या तीन दर्जन से ज्यादा है। एक गधे की आत्मकथा’, ‘एक वाइलिन समुन्दर के किनारे’, ‘एक गधा नेफा में’, ‘तूफान की कलियां’, ‘कार्निवाल’, ‘एक गधे की वापसी’, ‘गद्दार’, ‘सपनों का कैदी’, ‘सफेद फूल’, ‘प्यास’, ‘यादों के चिनार’, ‘मिट्टी के सनम’, ‘रेत का महल’, ‘कागज की नाव’, ‘दौलत और दुनिया’, ‘प्यासी धरती, प्यासे लोक’, ‘पराजय़आदि उनके प्रमुख उपन्यास हैं।

तो वहीं जिंदगी के मोड़ पर’, ‘टूटे हुए तारे’, ‘तीन गुंडे’, ‘समुन्दर दूर है’, ‘अजंता से आगे’, ‘हम वहशी हैं’, ‘मैं इंतजार करूंगा’, ‘दिल किसी का दोस्त्त नहीं’, ‘किताब का कफन’, ‘अन्नदाता’, ‘तिलस्मे-ख्याल’, ‘सुबह होती है’, ‘बाबन पत्ते’, ‘हवाई किले’, ‘यरकानआदि उनके प्रमुख कहानी संग्रह हैं।

पढ़ें : नगमा-ओ-शेर की सौगात पेश करने वाले नौशाद अली

पढ़ें : रफी के गीतों के बिना अदाकार फिल्मों के लिए नहीं भरते थे हामी

पढ़ें : गुफ़्तगू ए मौसिक़ी से अनवर गुमनाम क्यों हुए?

लिखी यादगार फिल्में

कृश्न चंदर की किताबों के अनुवाद भारतीय भाषाओं के अलावा दुनिया की प्रमुख भाषाओं में भी हुए। मसलन अंग्रेजी, रूसी, चीनी, चेक, पोलिश, हंगेरियन आदि। उन्होने रेडियो नाटक और फिल्मी पटकथाएं भी लिखीं।

बंगाल के अकाल पर उन्होंने अन्नदाताकहानी के अलावा दिल को छू लेने वाला एक नाटक, ‘भूखा बंगालभी लिखा। जिसे इप्टा ने उस वक्त पूरे देश में खेला। उनकी एक और दीगर मशहूर कहानी जामुन का पेड़का नाट्य रूपान्तरण बड़ी देर की मेहरबान आते आतेके रूप में हुआ।

कृश्न चंदर उन मुट्ठी भर साहित्यिक दिग्गजों में से एक थे, जिन्होंने भारतीय फिल्म उद्योग को अपनी प्रतिभा से सजाया, संवारा। उन्होने तकरीबन दो दर्जन फिल्मों के लिए पटकथा और संवाद लिखे। इनमें से धरती के लाल’, ‘आंदोलन’, ‘एक दो तीन’, ‘ममता’, ‘मनचली’, ‘शराफत’, ‘दो चोरऔर हमराहीजैसी फिल्मों को बॉक्स ऑफिस पर कामयाबी मिली।

फिल्म धरती के लालऔर शराफतउनकी कहानी पर ही बनी हैं। कृश्न चंदर को अपने जीवन में कई पुरस्कारों और सम्मानों से नवाजा गया। उनकी अनगिनत साहित्यिक उपलब्धियों को स्वीकार करते हुए भारत सरकार ने भी उन्हें पद्मभूषण से सम्मानित किया। कृश्न चंदर का नाम उन साहित्यकारों में शुमार होता है, जिन्हें सोवियत संघ के प्रतिष्ठित पुरस्कार सोवियत लैंड नेहरू पुरस्कारसे नवाजा गया।

आखिरी समय तक कृश्न चंदर ने अपनी कलम नहीं छोड़ी। 8 मार्च, 1977 को मुंबई में जब कृश्न चंदर का निधन हुआ, तो उस वक्त भी उनके हाथ में कलम मौजूद थी। कृश्न चंदर ताउम्र प्रगतिशील, मानवतावादी रहे। उनका बेश्तर लेखन हिंदू-मुस्लिम अलगाववाद के खिलाफ है।

समाज के दलित, दमित, शोषित वर्गों के हक में उनकी कलम हमेशा आग उगलती रही। अपने भावपूर्ण लेखन, जमीन से जुड़े किरदारों और सर्वहारा के मार्मिक-सजीव चित्रण की खातिर कृश्न चंदर अपने पाठकों के दिलों में हमेशा जिंदा रहेंगे।

जाते जाते :

* असद भोपाली : फिल्मी दुनिया के गुमनाम नग़मानिगार

अपनी इबारत खुद लिखने वाली अदाकारा शौकत आज़मी

वतन और कला से मक़बुलियत रखनेवाले एम. एफ. हुसैन

डेक्कन क्वेस्ट फेसबुक पेज और डेक्कन क्वेस्ट ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

You can share this post!

author

ज़ाहिद ख़ान

लेखक स्वतंत्र टिप्पणीकार और आलोचक हैं। कई अखबार और पत्रिकाओं में स्वतंत्र रूप से लिखते हैं। लैंगिक संवेदनशीलता पर उत्कृष्ठ लेखन के लिए तीन बार ‘लाडली अवार्ड’ से सम्मानित किया गया है। इन्होंने कई किताबे लिखी हैं।