मौ. शौकत अली के वजह से बने थें तुर्की खलिफा और निजाम संबंधी

मौ. शौकत अली के वजह से बने थें तुर्की खलिफा और निजाम संबंधी
Archive

अली भाई के नामसे मशहूर मौलाना मुहमद अली और शौकत अली ने तुर्की की खिलाफत के लिए जो मुहीम चलाई थी, उसे भारत का इतिहास कभी भुला नहीं सकता। खिलाफत आंदोलन की वजह से भारत के स्वाधिनता संग्राम ने एक निर्णायक मोड लिया था। और इसी आंदोलन कि वजह से अली भाईंयो के तुर्की के खलिफा से करीबी रिश्ते बने थें। जिसके जरीए मौलाना शौकत अलीने तुर्की के खलिफा कि बेटी दुर्रे शहवार का निकाह हैदराबाद के निजाम मीर उस्मानअली खान के बेटे से करवाया था। जिसकी वजह से निजाम ने मौलाना शौकत अली को 200 कुलदार कि पेन्शन महाना देने का आदेश दिया था। इसी पेन्शन के संदर्भ में यह लेख काफी रोचक है।

मौलाना मुहंमद अली और शौकत अली जो अली ब्रदर के नामसे भी प्रसिद्ध थें। यह दोनो भाई भारत के स्वतंत्रता संग्राम के दो अहम किरदार हैं। महात्मा गांधीजी और दुसरे नेताओं से इनका करीबी रिश्ता रहा हैं अली भाई में मौलाना शौकत अली बडे थे। हैदराबाद रियासत के आखरी हुक्मरान मीर उस्मानअली खान अपने दोनो लडकों आजमजाह और मुअज्जमजाह का रिश्ता तुर्की के खलिफा के खानदान में तय कराना चाहते थे। अपने बडे बेटे का रिश्ता तय करने के लिए मौलाना शौकत अली के जरिए कोशीशें कि थी।

यह भी पढे : भारतरत्न सन्मान लेने इनकार करनेवाले मौलाना आझाद

यह भी पढे : जाकिर हुसैन वह मुफलिस इन्सान जो राष्ट्रपति बनकर भी गुमनाम रहा

मौ. शौकत अली ने मीर उस्मान अली खान कि इच्छा और सूचना के मुताबिक उनके बेटे का रिश्ता तुर्की के खलिफा सुलतान . मजीद खान कि एकलौती सहाबजादी से करवाया था। मौ. शौकत अली के इस खिदमत के सिलसिले में उनकी शख्सियत का खयाल करते हुए मीर उस्मान अली खान ने मौलाना को दुसरे विश्वयुद्ध से पहले 200 रुपये प्रतिमाह पेन्शन भी शुरू किया था। मौलाना शौकत अली के इन्तेकाल के बाद भी इस पेन्शन की कुछ रकम इनके खानदान को अपने गुजर बसर के लिए मिलती रही।

आंध्र प्रदेश स्टेट आर्काइव्हज अँड रिसर्च इन्स्टिट्यूट के रेकॉर्ड कि छानबीन के बाद कुछ अहम तथ्य सामने आते हैं। नवाब मीर उस्मान अली खान ने इस बारे में एक फर्मान 15 मार्च 1936 को जारी किया था। जिसमें मौ. शौकत अली को जिंदगीभर के लिए आर्थिक सहाय्यता करने देने हेतू कौन्सिल कि सलाह मांगी थी।

यह भी पढे : डॉ. इकबाल के युरोप के जिन्दगी का असल दस्तावेज

यह भी पढे :  कानून और राजनीति को एक दूसरे से अलग कर देखते थें न्या. एम. सी. छागला

फर्मान -

‘‘मौलवी शौकत अली ने सिनियर प्रिन्स के तआल्लुक से खलिफा तुर्की की सहाबजादी से करार देने के मुतआल्लीक, मेरी हिदायत के मुताबिक जो कुछ काबील कद्र खिदमात अंजाम दी थी। इससे गालीबन कौन्सिल नावाकीफ नहीं है। और उस वक्त मौलवी साहब से मैंने वादा किया था, कि वह इतमिनान कर लें जब वक्त आएगा इसका क्या सिला मिलेगा, मैं जरुर गौर करुंगा। चुनांचा देहली में जब यह मुझसे खानगी (व्यक्तिगत) में मिलने आए, तो एक तरह मेरे वादे की याददहानी (स्मरण) कि थी। दुसरी तरफ अपनी माली मुश्किलात का भी तज्कीरा किया था।

इस बिना पर लिखता हूँ, जबकी रियासत हैदराबाद ने महज रियायत के बिना पर कई अश्कास को माकुल वजीफे दिए हैं। तो कोई वजह नहीं है, की इस शख्स को सिले से महरुम किया जाए। बस मुनासिब होगा कि इस तारीख से जबके बिरादारान वाला, बाद अक्द नाईस (पश्चिमी फ्रान्स) से हैदराबाद आएं तो मौलवी साहब के नाम दो सौ रुपये कुलदार (यानी जनवरी 1932 से) वजीफा ता हयात जारी किया जाए। जो के इस वक्त इनकी बहोत इमदाद का बाईस होगा। मुझे उम्मीद है कौन्सिल को मेरी राय से पुरा इत्तेफाक होगा। मोहर्रम कि छुट्टीयाँ खत्म होने के बाद कौन्सिल अपनी राय से मुतआलिक अर्जदाश्त मेरे यहां पेश करे।’’

कौन्सिल को मीर उस्मानअली के राय से पुरी तरह इत्मिनान नहीं था। कौन्सिल ने अपनी एक मिटींग में कुछ बदलाव के साथ एक प्रस्ताव को मंजूरी दी, उसके मुताबिक मौ. शौकतअली के पिछले और वर्तमान रेकॉर्ड को नजर में रखते हुए, इनके नाम एक सौ रुपये महाना उनके गुजर बसर के लिए देने का फैसला किया।

यह भी पढे : बादशाह खान मानते थें विपत्तियो में इन्सान बहुत कुछ सीखता है

यह भी पढे : फखरुद्दीन अली अहमद जिनकी पहचान एक बदनाम राष्ट्रपति’ रही

कौन्सिल के इस प्रस्ताव को 10 जून 1936 को मीर उस्मानअली खान के सामने रखा गया, जिसमें कौन्सिल कि सूचनाएं शामील थी। इस प्रस्ताव के बाद मीर उस्मानअली खान ने कोई फर्मान जारी नहीं किया। इससे यह बात साफ होती है कि, निजाम मीर उस्मानअली खान चाहते थे की, उनके राय के मुताबिक मौलाना शौकत अली के लिए दो सौ रुपये महाना आर्थिक सहाय्यता को मंजूरी दी जाए।

इसी बीच मौ. शौकत अली ने अपने अपना एक खत 14 अगस्त 1937 को सद्र आजम रियासत हैदराबाद को लिखा। जिसमें उन्होने कहा -

मुझको इल्म हुआ था के आला हजरत हुजुर निजाम ने मेरी हिम्मत अफजाई और कदरदानी के लिए मेरे लिए दो सौ रुपये कुलदार का मन्सब मुकर्रर फरमाया था। और वह भी 1 जनवरी 1932 से जबके आला हजरत के हुक्म के मुताबिक मैने हिज हायनेस प्रिन्स कि शादी खलिफा सुलतान . मजिद खान की साहबजादी से करवाई थी। खुदाए बरतर ने इसमें कामयाबी अदा फरमायी थी। और मैं अपनी बडी खुशकिस्मती समझता हूं की मेरे जरिए ऐसा काम सर अंजाम पाया।

इस खत को कौन्सिल के सामने रखा गया। इस खत पर गौर करने के बाद कौन्सिल ने आर्थिक सहाय्यता को मंजुरी दे दी। इसके बाद मौ. शौकत अली हैदराबाद आए थे। तब दफ्तर पेशी के चीफ सेक्रेटरी मीर काजीम यार जंग ने उनसे पुछा की, ‘‘पेन्शन कि जो बकाया रकम आपको 1932 से आपको मिलने वाली है, उसका किस तरह इस्तेमाल करेंगे?’’

यह भी पढे : आसिफिया राजवंश के सुलतान मीर कमरुद्दीन अली खान कि शायरी

यह भी पढे : कुतुबशाही दरबार के तीन बडे कवि जिन्होने दकनी को दिलाया बडा स्थान

तब मौ. शौकत अली ने काजीम यार जंग से कहा कि,

‘‘यह बात निजाम मीर उस्मान अली खान कि खिदमत में पहुंचाई जाए की, मैं अपना वक्त कौमी और इस्लामी खिदमत के बाद खेती और बागबानी में बिता रहा हूं। और मैंने अपने बेटे को भी इसी काम में लगाया है। भोपाल में कुछ जमीन खरीदी है। नवाब भोपाल ने भी कुछ जमीन दी है। जिसपर मैने आम और अन्य फलों के पेड कर्ज लेकर लगवाए हैं। निजाम कि तरफ से मिलनेवाली रकम से 4 हजार का मकान खरीद कर अपनी भाभी मौ. मुहंमद अली जोहर की बेवा बीवी को देना चाहता हूं। और बाकी रकम कर्जा और खेती, बागबानी पर खर्च करुंगा जिसे मैं अपनी जिंदगी के गुजर बसर के लिए कर रहा हूं।’’

इसके बाद 26 नवंबर 1938 को मौ. शौकत अली का निधन हुआ। उनके इंतकाल के बाद मौलाना के बेटे जाहीद अली ने सर अकबर हैदरी को लिखा के वह अपने पिता के मौत कि वजह से काफी परेशानियों का सामना कर रहे हैं। इनके बडे खानदान के गुजरबसर कि जिम्मेदारी उनके पिता ही संभालते थे। मगर उनके निधन से कमाई के सारे जरिए खत्म हो चुके हैं। पिता निजाम हैदराबाद से मिल रही अर्थसहाय्यता से ही अपने खानदान का गुजर बसर करते और अपने नवासों के शिक्षा का खर्चा भी उठाते थे, जो आजकल अलीगड में पढ रहे हैं।

इस खत में जाहीद अली ने ऐसी बिनती कि थी की जो रकम इनके पिता को हैदराबाद कि आसिफीया हुकुमत की तरफ से मिल रही थी, वह अबउन्हे मिलती रहे ताकी उससे वह अपने खानदान का गुजर बसर कर सकें।

जाहीद अली का यह खत जब कौन्सिल के सामने रखा गया। तब कौन्सिलने मौ. शौकत अली कि बीवी को पेन्शन का तिसरा हिस्सा यानी 66 रुपये महाना पेन्शन के तौर पर देने को मंजूरी दी। इसके साथही निजाम मीर उस्मानअली खान ने मौलाना शौकत अली कि मरहूम बेटी के बच्चों कि शिक्षा के लिए महाना 50 रुपये अर्थ सहाय्यता को मंजूरी दी।

जाते जाते यह भी पढे :

एशिया का सबसे बडा मीर यूसुफ अली खान का ‘सालारजंग म्युझियम

* औरंगाबाद कि शुरुआती दौर की बेहतरीन इमारतें

You can share this post!

author

डॉ. सय्यद दाऊद अशरफ

पूर्व में आंध्र प्रदेश राज्य के अभिलेखागार प्रमुख के रूप में सेवारत थें। अब वह सेवानिवृत्त होकर हैदराबाद के निजाम संस्थान पर इतिहास में शोधकार्य करते है। वे पर्शियन भाषा के जानकार माने जाते हैं। निजाम मीर उस्मानअली खान पर उनका गहन संशोधन हैं। जिसमें उनकी अबतक 15 से अधिक पुस्तके प्रकाशित हो चुकी हैं। 15 हजार फारसी दस्तावेजों पर उन्होंने पीएच.डी की हैं।